attitude · change · fear · life · micro poetry · Motivation · Poems · positive attitude · positivity · writing

क्यूँ डरते हो?

Wrote an impromptu poem long time back while editing this picture I clicked: क्यूँ डरते हो जलने से? क्यूँ बुझने देते हो अपनी लौ 'लोग क्या कहेंगे?' की फूंक से? लोग तो कुदरत में भी कमी निकालते हैं, तो क्या सूरज ने जलना छोड़ दिया? क्या बारिश ने बरसना छोड़ दिया? क्या हवाओं ने बहना… Continue reading क्यूँ डरते हो?