attitude · change · fear · life · micro poetry · Motivation · Poems · positive attitude · positivity · writing

क्यूँ डरते हो?

Wrote an impromptu poem long time back while editing this picture I clicked:

क्यूँ डरते हो जलने से?
क्यूँ बुझने देते हो अपनी लौ
‘लोग क्या कहेंगे?’ की फूंक से?
लोग तो कुदरत में भी कमी निकालते हैं,
तो क्या सूरज ने जलना छोड़ दिया?
क्या बारिश ने बरसना छोड़ दिया?
क्या हवाओं ने बहना छोड़ दिया?

जब कुदरत दुनिया को
एक समान ख़ुश ना कर पाई,
तो हम क्या चीज़ हैं?
तुम तूफान बनके बहो
जिस ओर तुम्हें जाना है|
दुनिया खुद आदत डाल लेगी|

Advertisements

4 thoughts on “क्यूँ डरते हो?

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s